Skip to content Skip to navigation

वीरांगना झलकारी बाई जी का 184वां जन्मदिन

x

Error message

  • The file could not be created.
  • The file could not be created.

कोरी-कोली समाज का गौरव व देश प्रेम और दोस्ती की अदभुत मिसाल- वीरांगना झलकारी बाई जी का 184वां जन्मदिन मनाया , मेरी संस्था - अखिल भारतीय युवा कोली/कोरी समाज (रजि.) दिल्ली ने !

फरीदाबाद 23 नवम्बर 2014 : अखिल भारतीय युवा कोली/कोरी समाज (रजि.) दिल्ली ने रविवार को वीरांगना झलकारी बाई जी का 184वां जन्मदिन हरयाना प्रदेश-कार्यालय पर बड़ी धूम-धाम से मनायाकार्यक्रम की मुख्य अतिथि समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष इंजीनियर खेमचंद कोली थे ! कार्यक्रम के विशिष्ठ अतिथी श्री आर.बी. वर्मा (डायरेक्...टर-मौसम विभाग) व नेपाल से आये कोली समाज के श्री दानवीर बहादुर विश्वकर्मा कोली और श्री कैलाश्मन जी थे ! इस अवसर पर सभी ने सामूहिक रूप से माल्यार्पण कर व दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया ! इस मौके पर समाज के फरीदाबाद जिले के अध्यक्ष डॉ एच पी माहौरअन्य बंधुओं ने उपस्थित सभी अतिथियों का स्वागत पुष्प-मालाओं , शाल पहनाकरवीरांगना झलकारी बाई जी की पेंटिंग (स्मृतिचिन्ह) द्वारा किया गया ! नेपाली कोली बहन द्वारा उपस्थित सभी अतिथियों को टीका लगा व युवा बंधुओं द्वारा पुष्प-वर्षा कर सभी का पुनः स्वागत किया गया !
  मुख्य अतिथि इंजी. कोली जी ने कहा कि आज समाज के लिए बड़े गौरव का दिन है। वीरांगना झलकारी बाई जी , रानी झांसी की सेना में महत्वपूर्ण पद पर थीं । उन्होंने देश की आजादी के लिए झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के साथ अंग्रेजों से लड़ाई लड़ी थी। आज हमें समाज को शिक्षित करने पर जोर देना चाहिए, जिससे समाज का विकास हो सके। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्री रोशन लाल वर्मा जी ने कहा कि प्रदेश भर में समाज के लोगों को संगठित किया जाएगा। नेपाल से आये कोली समाज के श्री दानवीर बहादुर विश्वकर्मा कोली और श्री कैलाश्मन जी ने भी अपने वक्तव्य में दोनों देशों के समाज-बंधुओं को आपस में निरंतर एकता बढानेआपसी सामंजस्य बढाने पर जोर दिया ! उन्होंने समाज का अगला कार्यक्रम नेपाल में करने की घोषणा की व सभी समाज-बंधुओं को आमंत्रित किया ! श्री आर.बी. वर्मा (डायरेक्टर-मौसम विभाग) जी ने वीरांगना झलकारी बाई के जीवन पर प्रकाश डालाउन्होंने बताया कि वीरांगना झलकारी बाई देश की पहली महिला थीं जिन्होंने देश के लिए अपने प्राणो की आहुति दीउन्होंने ने बताया कि दलित समाज में जन्मी झलकारी बाई ने महारानी लक्ष्मीबाई के साथ अंग्रेजों के साथ युद्ध करते हुए अपने प्राणों की आहुति दिया थाइस मौके पर छेत्रिय पार्षद श्री बबलू भडाना जीसमाज के बिहारी लाल ठेकेदार, ओम प्रकाश माहोर, विशन सिंह, श्याम प्रकाश, राम पाल सिंह, नानक चंद, देवी शरण, गिरधारी लाल, रोशन लाल, चन्द्र पाल, पवन कुमार, बाबू लाल, हरी राम, महिला अध्यक्ष ओमवती, लीलावती, केला देवी, चन्द्रावती, कमलेश, शकुंतला, नन्द किसोर, देवी राम जोगिन्दर, चंद्रपाल, लाला राम, महेश कुमार, राधे लाल, किशन, मदन, मनोज कुमारदिल्ली से कमल कोली, महावीर सिंह जी, गगन कोली,कारण कोली, दीपक कोली सहित समाज के सैकड़ों लोग मौजूद थेकार्यक्रम के बाद भोजन-जलपान की अति-विशेष व्यवस्था की गई थी !

कृपया अधिक से अधिक शेयर करें !!!!!

जय वीरांगना झलकारी बाई जी - जय कोली/कोली/मुदिराज समाज !